skip to Main Content
त्रिकोणासन करने की विधि और लाभ। Benefits Of Trikonasana In Hindi.

त्रिकोणासन करने की विधि और लाभ। Benefits of Trikonasana in Hindi.

त्रिकोणासन करने की विधि और लाभ। Benefits of Trikonasana in Hindi.

त्रिकोणासन । Trikonasana

 

आजकल लोग Weight कम करने और Fit रहने के लिए परेशान हैं, परन्तु उनका Weight कम नहीं होता। इसीलिए आज हम Benefits of Trikonasana in Hindi. के बारे में जानेगें।

 

Benefits of Trikonasana in Hindi.

 

 

जो व्यक्ति वजन को कम करना चाहते है उन्हें सर्वप्रथम अपने आहार पर संयम रखना चाहिए। उन्हें वही आहार लेना चाहिए जो उनके शरीर के लिए उचित व सुपाच्य हो। उसके साथ-साथ योगासन का नियमित अभ्यास करें तो निश्चित ही वजन भी कम होगा और अपने आपको स्वस्थ व फिट महसूस करेंगे। इसके लिए आज हम एक योगासन बताने जा रहे हैं उसका नाम है – त्रिकोणासन (Trikonasana)।

इस आसन को त्रिकोणासन (Trikonasana or Triangle Pose) इसीलिए कहा जाता है कि इसको करते समय शरीर का आकार त्रिकोण के जैसे हो जाता है।

त्रिकोणासन स्वास्थ्य के लिए बहुत ही उपयोगी है और इस आसन को करने से स्वास्थ्य में बहुत फायदे होते हैं।

त्रिकोणासन शरीर के विभिन्न हिस्सों जैसे पेट, कूल्हों और कमर से चर्बी को घटाने में मदद करता है।

इस कारण से यह त्रिकोणासन लोगों के बीच काफी लोकप्रिय है।  त्रिकोणासन का सबसे बड़ा फायदा यह है कि इसे किसी भी समय और किसी भी स्थान पर आसानी से किया जा सकता है। कोई भी व्यक्ति इस आसन का नियमित अभ्यास आसानी से कर सकता है।

 

More Read :  उत्तानपादासन करने की विधि और लाभ। 

 

Benefits of Trikonasana in Hindi.

 

 

त्रिकोणासन करने की विधि :

 

  • इस आसन को करने के लिए खड़े हो जाएं।
  • दिनों पैरों के बीच 3 फीट की दूरी रखें।
  •  अपने बाहों को अपने कंधे तक दोनों तरफ फैलाएं।
  •  अब श्वास लें, श्वास छोड़ते हुए दाहिने तरफ (Right Side) झुके। झुकते समय सामने की ओर देखें।
  •  दाहिने हाथ (Right Hand) से दाहिने पैर को छूने की कोशिश करें।
  •  बायां हाथ (Left Hand) ऊपर की ओर रखें, और दृष्टि बायें हाथ की ओर रखें।
  • अब सीधे होकर दूसरी तरफ हाथ बदलकर यह अभ्यास पुनः करें।
  •  ऐसा यह अभ्यास 20 से 30 बार जरूर करें।
  •  शरीर को ऊपर की ओर लाते समय श्वास अंदर लें तथा झुकते समय श्वास छोड़ें।

 

 

त्रिकोणासन करने के लाभ । Benefits of Trikonasana:

 

  • त्रिकोणासन करने से हमारे आंतों के अंदर क्रियाशीलता बढ़ती है।
  • इसका अभ्यास करने से पाचन तंत्र मजबूत होता है।
  • इसको करने से कब्ज दूर होता है।
  • त्रिकोणासन करने से पेट व कमर पर जमी अतिरिक्त चर्बी कम करने में सहायक होता है।
  • इसको करने से चिंता, तनाव दूर होता है, साथ ही शरीर व मन में स्फूर्ति मिलता है।
  • यह आसन हमारे शरीर के पैरों, घुटनों, कमर के भागों व कंधों को मजबूत बनाता है।
  • यह पीठ दर्द के साथ सायटिका के दर्द को भी दूर करता है।

 

 

त्रिकोणासन करने में  सावधानी। Precaution & Side-Effects Of Trikonasana:

 

  •  हाईपर एसिडिटी में इस आसन का अभ्यास करने से बचे।
  • अगर सिर में चक्कर आ रहा हो तो इस आसन का अभ्यास नहीं करनी चाहिए। High BP और Low BP में भी इस आसन का अभ्यास करने से बचना चाहिए।
  •  यदि हृदय (Heart) से संबंधित कोई भी समस्या हो तो त्रिकोणासन को करने से बचें।
  • अगर गंभीर पीठ दर्द की समस्या या गर्दन में दर्द रहता है, तो त्रिकोणासन का अभ्यास करने से परहेज करें।

 

योग हमारा शारीरिक और मानसिक दोनों तरह के विकास में सहायक होता है। अतः आप प्रशिक्षित योग शिक्षक के सानिध्य में ही योग का सही अभ्यास करें।

अगर आपको यह लेख उपयोगी लगता है तो कृपया इस लेख को नीचे दिए गए बटन को दबाकर Share करें।

Back To Top