skip to Main Content
वज्रासन करने की विधि और लाभ। Benefits Of Vajrasana In Hindi.

वज्रासन करने की विधि और लाभ। Benefits of Vajrasana in Hindi.

वज्रासन करने की विधि और लाभ। Benefits of Vajrasana in Hindi.

 

वज्रासन शरीर के पाचनशक्ति, वीर्यशक्ति तथा स्नायुशक्ति को मजबूत बनाने में बहुत ही प्रभावशाली है, आइये हम वज्रासन करने की विधि और लाभ-Benefits of Vajrasana in Hindi.

Benefits of Vajrasana in Hindi.

 

वज्रासन शरीर के पाचनशक्ति, वीर्यशक्ति तथा स्नायुशक्ति को मजबूत बनाने में बहुत ही प्रभावशाली है।

आइये हम वज्रासन करने की विधि और लाभ। Benefits of Vajrasana in Hindi.

वज्रासन योगाभ्यास को हम कभी भी कर सकते हैं।

Vajrasana ही एक ऐसा योगाभ्यास है जिसे खाना खाने के तुरंत बाद भी कर सकते हैं। वज्रासन पाचनक्रिया को सही करता है, साथ ही कमर संबंधित अंगों की समस्याओं को दूर करने में सहायक है।

Read More : उत्तानपादासन करने की विधि और लाभ। 

वज्रासन करने की विधि । How to do Vajrasana.

  • किसी भी साफ जगह पर कम्बल या कोई आसन को बिछा लें।
  • दोनों पैरों को सामने की ओर फैला कर बैठ जाएं।
  • अब दोनों पैरों को मोड़कर इस तरह बैठे की दोनों पैर के पंजे पीछे हो।
  • दोनों पैर के अंगूठे एक दूसरे से मिलाकर रखें। साथ ही दोनों एड़ियों के बीच अंतर रखें।
    दोनों हाथों को दोनों घुटनों पर रखें।
  • सिर, गर्दन, तथा रीढ़ की हड्डियां एक सीध में रखें।

 

इस आसन में बैठने से शरीर के अंदर वज्रनाड़ी उत्तेजित होती है जिससे वीर्यधारा नाड़ी मजबूत बनती है।

जिससे वीर्य उर्ध्वगामी होता है, जिसके कारण शरीर मजबूत होता है।

 Benefits of Vajrasana

 

Read More :  त्रिकोणासन करने की विधि और लाभ। 

वज्रासन करने के लाभ। Benefits of Vajrasana.

  • इससे रीढ़ की हड्डी सीधी होती है, साथ ही Vajrasana अभ्यास से शरीर सुडौल बना रहता है।
  • प्रतिदिन भोजन के पश्चात 10 मिनिट करें यह आसन।
  • वज्रासन करने से शरीर का वज़न कम (Weight Loss) करने मेँ सहायता मिलती है।
  • जांघों की चर्बी घट जाती है। नितंब और जांघों का आकार सुडौल और सुंदर बनता है।
  • पेट और कमर से भी अधिक चर्बी (Fat) कम हो जाती है। और पेट का भारी-पन दूर होता है।
  • इसको करने से जननेंद्रिय को शक्ति मिलती है, इससे संबंधित बीमारियों में लाभदायक होता है।
  • महिलाएं अगर वज्रासन का अभ्यास करें तो मासिकधर्म की अनियमितता दूर होगी।
  • वज्रासन प्रजनन प्रणाली को मजबूत बनाता है।
  • यह आसन मैट, सोफा या अपने बेड के ऊपर भी किया जा सकता है।
  • पाचन क्रिया में सुधार होता है।
  • गैस एसिडिटी की शिकायतें दूर होती है।
  • कब्ज की समस्या दूर होती है।
  • Vajrasana करने से weight loss में भी मदद करता है
  • भोजन के पश्चात भी शरीर हल्का रहता है।
  • यह तुरंत ही प्रभाव दिखाने वाला और बहुत ही सरल आसन है।
  • इस योगाभ्यास को करने से उच्च रक्तचाप में लाभ मिलता है।
  • खाने के तुरंत बाद Vajrasana का अभ्यास करने से पाचन जल्दी हो जाता है।
  • वज्रासन करने से पैरों की मांसपेशियां मजबूत होती है।

 

वज्रासन करने में  सावधानी। Precaution & Side-Effects Of Vajrasana

  • जोड़ों के दर्द से पीड़ित व्यक्ति वज्रासन को न करें।
  • एड़ी के रोग से पीड़ित न करें।
  • वज्रासन करने वाले व्यक्ति को यह आसन हड़बड़ी में नहीं करना चाहिए।
  • जिनको चलने-फिरने में परेशानी हो वे सावधानी से वज्रासन को करें।
योग हमारा शारीरिक और मानसिक दोनों तरह के विकास में सहायक होता है। अतः आप प्रशिक्षित योग शिक्षक के सानिध्य में ही योग का सही अभ्यास करें।
आपको यह आर्टिकल जरूर पसंद आया होगा, आप कृपया इसे LIKE या SHARE करे ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग इस पोस्ट को पढ़ सकें हो सकता आपके किसी मित्र या किसी रिश्तेदार को इसकी जरुरत हो और यदि किसी को इस post से मदद मिलती है तो आप को धन्यवाद जरुर देगा। आपका कोई सवाल या सुझाव हो तो कृपया कमेंट करे। साथ ही हमारे आने वाले सभी आर्टिकल को सीधा अपने मेल पर पाने के लिए हमे Subscribe करे।
Back To Top